PM Modi's Address To The Nation: 'मिशन शक्ति कामयाब, चौथा स्पेस सुपरपावर बना भारत'



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्र के नाम संबोधन दिया. इस संबोधन में पीएम मोदी ने घोषणा की कि भारत आज अंतरिक्ष की महाशक्ति बन चुका है. पीएम ने बताया कि भारत का मिशन शक्ति कामयाब हो गया है और भारत ने अंतरिक्ष में लाइव सैटेलाइट मार गिराया है.

उन्होंने कहा, ‘भारत ने आज अपना नाम स्पेस पावर के रूप में दर्ज करा दिया है. अब तक केवल तीन देश अमेरिका, रूस और चीन को यह तमगा हासिल था. हर हिंदुस्तानी के लिए इससे बड़ी उपलब्धि नहीं हो सकती है. कुछ ही समय पहले हमारे वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में लाइव सैटेलाइट को मार गिराया.’

PM Narendra Modi: India has entered its name as an elite space power. An anti-satellite weapon A-SAT, successfully targeted a live satellite on a low earth orbit. pic.twitter.com/VSJANo4Jt7
— ANI (@ANI) March 27, 2019

पीएम मोदी ने कहा, ‘देश के लिए आज गर्व का दिन है. लो अर्थ ऑर्बिट में एक लाइव सैटलाइट को मार गिराया गया. यह परीक्षण किसी भी अंतरराष्ट्रीय संधि का उल्लंघन नहीं करता.’ इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘मिशन शक्ति एक बहुत मुश्किल ऑपरेशन था, लेकिन भारतीय वैज्ञानिकों ने इसे लॉन्च के सिर्फ 3 मिनट में ही हासिल कर लिया है.’

बता दें कि पीएम मोदी ने बुधवार को ट्वीट कर बताया था कि वह 11.45 से 12.00 बजे के बीच एक महत्वपूर्ण संदेश देंगे. उन्होंने ट्वीट किया, ‘मेरे प्यारे देशवासियों, आज सवेरे लगभग 11.45 – 12.00 बजे मैं एक महत्वपूर्ण संदेश लेकर आप के बीच आऊंगा. पीएम मोदी ने लिखा है कि आप इसे टीवी, रेडियो या सोशल मीडिया पर देख सकते हैं.’

अपने इस संबोधन में पीएम ने बताया कि भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ये कामयाबी बहुत अहम है. भारत ने अंतरिक्ष क्षेत्र में जो काम किया है, उसका मूल उद्देश्य भारत की सुरक्षा, भारत का आर्थिक विकास और भारत की तकनीकी प्रगति है.

उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को आश्वासन दिलाया कि भारत ने ये उपलब्धि अपने विकास के लिए हासिल की है, न ही किसी देश के खिलाफ इस्तेमाल करने के लिए. भारत विकास और विश्व शांति में विश्वास रखता है.

PM: A-SAT missile will give new strength to India’s space prog. I assure int’l community that our capability won’t be used against anyone but is purely India’s defence initiative for its security.We’re against arms raised in space. This test won’t breach any int’l law or treaties pic.twitter.com/C614FEq9RT
— ANI (@ANI) March 27, 2019

Source link



Leave a Reply